Kushabhau Thakre University

Kushabhau Thakre University
campus

Thursday, 27 September 2012


संचार जीवन का अंग: श्री जोशी

रायपुर२४ सितम्बर !
जीवन में स्वास लेना जिस तरह आवश्यक होता है उसी प्रकार व्यक्ति को जीवित रहने के लिए संचार भी जरुरी है चाहे वह हमारे विचारो का संचार हो या फिर हमारी क्रिया या विपरीत प्रतिक्रिया का ! सही मायने में संचार हमारे जीवन का एक अंग है जिसके बिना व्यक्ति का कोई अस्तित्व नहीं ! एक निर्जीव वास्तु भी हमे संचरण का भाव सिखाता है ! जब हम किसी पत्थर या बदल को देखते है तो उसमे भी हम प्रतिक्रिया खोज लेते है जिससे प्रतीत होता है के वे भी हमसे संचार करते  हो ! उक्त उदगार कुशाभाऊ ठाकरे  पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के कुलपति श्री सच्चिदानंद जोशी ने विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में आयोजित उन्मुखी कार्यक्रम में कही !
 विश्वविद्यालय कुलपति श्री सच्चिदानंद जोशी 
 श्री जोशी ने जनसंचार विभाग के उपस्तिथ छात्र छात्राओं को पत्रकारिता में संचार की भूमिका बताते हुए कहा की किसी और को सिखाने से पहले हमे स्वयं सीखना होगा ! आज जीवन की गाडी जिस रफ़्तार से आगे बढ़ रही है हम सब उसी भागम भाग में दौड़ते चले जा रहे है ! हमे जिंदगी की रफ़्तार को धीमा कर उसे जीना सीखना होगा और यह तभी संभव है जब हम क्या होगा को छोड़कर क्या कर रहे है के बारे में सोचे !  
जनसंचार विभाग के उपस्तिथ छात्र छात्रा
उन्होंने आगे कहा की समाज में विश्वास काबिल बनना ही असली सफलता है जिसके लिए संचार के गुण होना अति आवश्यक है !  आज के सोशल  नेट्वोर्किंग पर जोर देते हुए उन्होंने कहा की इनके माध्यम से हम लोगो से जुड़ते तो जा रहे है किन्तु समाज के वास्तविक गतिविधियों व मूलस्वरूप से काफी दूर हो चुके है !
 सही संचार के लिए हमे अपनी जिम्मेदारियों को समझना होगाअपनी संग्रहण शक्ति और अपनी सोच बढ़ानी होगी कार्यक्रम में जनसंचार विभागाध्यक्ष डॉ. शाहिद अलीव्याख्याता राजेंद्र मोहंती सहित विभाग के छात्र छात्राएं उपस्थित रहे !

समाज कार्य विभाग में उन्मुखीकरण कार्यक्रम का सफल आयोजन

 17 flrEcj jk;iqjA Nk= thou essa vuq’kklu o bZekunkjh dh jkg ls ,d vPNs lektdk;ZdrkZ dh Hkwfedk fuHkkbZ tk ldrh gS Lkekpkj] i=&if=dkvks esa vkus okyh [kcjs dgh u dgh lekt ds eqn~nks dks gh lkeus ykrs gS vkSj lekt dk;Z bu eqn~nks ds lek/kku dk ,d lgt ekxZ LFkkfir djrk gSA blh izdkj dh vkSj Hkh dbZ izsj.kkL=ksr ckrs foxr fnuks 17 flrEcj dks mUeq[khdj.k dk;Zdze ds rgr dq’kkHkkÅ Bkdjs i=dkfjrk ,oa tulapkj fo’ofo|ky; jk;iqj ds dqyifr Jh lfPpnkuan tks’kh us Nk=ks ds le{k dghA bl eqykdkr esa dqyifr Jh tks’kh us igys lHkh Nk=ks dk ifjp; fy;kA mUgksus eqcabZ ds ,d eqdcf/kj Ldqy esa ogkW ds fo|kfFkZ;ks ds lkFk fcrk, yEgks dks ;kn djrs gq, dgk fd lekt dk;Z ds {ks= esa ,d izHkko’kkyh lapkj dk gksuk vko’;d gS tc rd lapkj izHkkoiw.kZ ugh gksxk rc rd lekt ls tqM+h leL;kvks vkSj yksxks dh thou’kSyh ds ckjs esa lgh tkudkjh ugh fey ik,xhA ppkZ ds nkSjku dqyifr us Nk=ks ls muds O;fDrxr leL;kvksa ds ckjs esa ckrphr dh vkSj mUgh leL;kvks ls lacaf/kr lykg fn,A fo’ofo|ky; }kjk iznr igpku i= ds nq#i;ksx dks ysdj dqyifr egksn; us mlds lgh mi;ksx dks crkrs gq, Nk=ks dks blds izfr ftEesnkjh ls voxr djk;kANk=ksa vkSj dqyifr ds e/; vkReh;rk o fuladksp Hkko ls lh/ks laokn bl dk;Zdze dk eq[; mn~ns’; FkkA ftlds rgr  Nk=ksa dh eakx ij fudV Hkfo”; esa fo’ofo|ky; esa ^O;fDrRo fodkl^ dh d{kk,Wa Hkh vk;ksftr fd, tkus dh ckr j[kh x;hA
 bl ppkZ ds vUr esa dqyifr us Nk=ksa vkSj foHkkx izeq[k dks bl fo’ofo|ky; dh ijaijk ds vuqlkj izfro”kZ vk;ksftr gksus okys ^^okbZl paklyj VªWakQh^^ izfr;ksfxrk ds laca/k esa Hkh dkQh lkjh egRoiw.kZ tkudkjh vkSj ekxZn’kZu fn,sA blh dM+h ess lM+dks ij ?kqeus okys vukFk cPpks ds thou’kSyh dks tkuus vkSj mUgs ,d ubZ fn’kk nsus gsrq lekt dk;Z ds Nk=ks dks ,d ifj;kstuk ds :Ik esa dk;Z Hkkj lkSik x;kA lh/ks laokn dk volj ikdj lHkh Nk=&Nk=k,a larq”V vkSj mRlkfgr utj vk,aA 


        भानुपतापपुर में 5 दिवसीय कार्यशाला का सफल आयोजन

कैमरे की तकनीकी जानकारी लेते छात्र
18 flrEcj jk;iqjA 1099 dh tula[;k okys xkWo esa lQy lapkfyr ;kstuk] ijUrq mu ;kstukvks ls vufHkK xzkeh.k ifjos’k ;s lkspus ij foo’k djrh gS fd ;s ;kstuk,s D;k okdbZ esa lQy gks ikbZ gSA blh idkj vkSj Hkh dbZ loky ns[kus dks feys Hkkuqirkiiqj ds nks xkWo ds Hzke.k esaA tgkWa ij 5 fnolh; dk;Z’kkyk ds rgr 6 flrEcj dks xzkeh.k thou’kSyh dk v/;;u fd;k x;kA dqYgkM+dV~Vk vkSj eksgxkWo  tSls xkWo esa fo|kkfFkZ;ks dh nks Vhe us Hzke.k fd;k rFkk ogkW ij LokLF;] f’k{kk] lqfo/kk ;kstuk tSls xaHkhj eqn~nks ij xkWookyks ls tkudkjh yhA
कार्यशाला में उपस्थित छात्र व स्थानीय कार्यकर्ता
dq’kkHkkÅ Bkdjs i=dkfjrk ,oa tulapkj fo’ofo|ky; jk;iqj ds lekt dk;Z ,oa tulapkj foHkkx ds Nk=ks us Hkkuqirkiiqj ds egf"kZ okYehfd egkfo|ky; ds Nk=ks ds lkFk feydj Lkkekftd ifjorZu esa ;qokvks dh Hkkxhnkjh tSls l’kDr fo"k; ij vius fopkjks dks vkys[k ds ek/;e ls iLrqr djus tSls dbZ fo"k;ks ij ppkZ dhA
'kkldh; egf”kZ okYehfd egkfon~;ky; esa vk;®ftr ikap fnolh; dk;Z'kkyk d® lac®/kfr djrs gq, dq'kkÒkÅ Bkdjs i=dkfjrk fo'ofon~;ky; jk;iqj ds foÒkxk/;{k 'kkfgn vyh us dgk fd lekt ds cnyrs ijfo'k esa ;qokv®a dh Òkxhnkjh vkt gj {ks= esa ns[kus d® feyrh gSA pkgs og xzkeh.k ijfo'k g® ;k 'kgjhA vke turk vxj lwpuk ds v/kfdkj dk mi;®x djs r® tokcnsg iz’kklu dh ifjdYiuk d® gdhdr esa cnyk tk ldrk gSA
कैमरे की तकनीकी जानकारी लेते छात्र
5 fnolh; bl dk;Z’kkyk esa tgkW ij  Hkkuqirkiiqj egkfo|ky; ds ikpk;Z  v:.k dqekj Ogh us dk;Z’kkyk dk vkxkt fd;k ogh ij izeq[k lekpkj i=ks esa fo|kkfFkZ;ks ds Nis vkys[k ij mUgs iqjLd`r Hkh fd;k x;kA
Izkkpk;Z v:.k dqekj Ogh us Nk=ks ls lekt ds izfr drZO;®a d® iwjk djus dk vkokgu fd;kA bl ikap fnolh; dk;Z'kkyk esa dq'kkÒkÅ Bkdjs i=dkfjrk fo’ofon~;ky; jk;iqj ds lekt dk;Z o tulapkj ds fo|kfFkZ;ks ds lkFk f'koflag cÄsy] ojf"~B i=dkj vk'kk 'kqD~yk] lkekftd laLFkk pj[kk ds ,l®lf,V ,MfVj 'kEl reUuk] LFkkuh; dk;ZdrkZS vkfcnk ijohu lfgr vU; miLFkfr FksA
dk;Z’kkyk esa eq[; ykHkkafor dks.k jgk Nk=ks dk vkj Vh vkbZ ds vk/kkj ij vkosnu ik:Ik cukukA ftldk iz;ksx dj os vius lekt] vius {ks=] vius jkT; ds fodkliq.kZ igyqvks ij vf/kdkj i.kZ vkys[k fy[k ldsA


Social Mapping done in 12 Tribal Villages of Bhanupratapur Block


18 vxLr jk;iqjA ‘kgj ds Hkkx nkSM+ ls nqj xzkeh.k tuthou tgkWa Hkh vkfnolh ifjos’k jpk clk gS tks fdlh uk fdlh dkj.k ls fodkl dh /kkjk ls nqj gS pkgs og uDly dh leL;k gks ;k lqnqj ou {ks=A ,sls esa muds fodkl dh ifjxkFkk fdl gn rd fufeZr gS\ LokLFk]f’k{kk tSlh eqyHkqr ;kstuk,W dsoy ;kstuk gS ;k mu ij ykHkkfUor fdz;kUou Hkh gqvk gS\ muds fodkl dh ;kstuk,Wa fdl gn rd mUgs ykHkkfUor djrh gS\
Xkzkeh.k ifjos’k dh tkudkjh ysrs Nk=
 blh izdkj ds dqN lokyks ds tokc ryk’kus ds fy, fnukad 25@07@2012 ls 28@07@2012 rd dq'kkHkkÅ Bkdjs tulapkj ,oe i=dkfjrk fo'o fo|ky; ds lektdk;Z ,oa tulapkj foHkkx }kjk dkadsj ftys ds Hkkuqizrkiiqj CykWd es rhu fnolh; lkekftd ekufp= losZ dk dk;Z fd;k x;kA ;g loZs ß;qFk ikVhZflislu QkWj lks’ky past ß ifj;kstuk ds varxZr Hkkuqizrkiiqj egkfo|ky; ds ch ts ,e lh  i=dkfjrk ,oe vke tu dks lkekftd leL;kvks ds izfr tkx:d rFkk dye ds ek/;e ls mUgsa l'kDr cukus gsrq fd;k x;kA blds lkFk gh bl losZ dk mn~ns'; CyWkd ds lkekftd leL;kvksa dh tkudkjh izkIr djuk FkkA ftls dh vke tu dks lgk;rk izkIr gks ldsA

‘kS{kf.kd Hkze.k leqg 
   bl rhu fnolh; dk;Zdze es pkj eq[;ksa fo"k;ksa ij /;ku dasUnzhr FkkA tks fd dze’k% f’k{kk] LokLF;] lkekftd laLd`fr] ,oa vkftohdk FkkA dk;Zdze ds nkSjku CykWd ds xkao rjkanqy] cksxj] fdukjh] gkVZdjkZ] gsVkjdlk] /kuxqMjk] isaokjh] >ksfyu] dqvkaiuh] Hkkuqizrkiiqj nl xkaoks dk ‘kS{kf.kd Hkze.k fd;k x;kA bl iwjs dk;Zdze es ekXkZn’kZd ds :Ik es tulapkj ,oe lektdk;Z ds foHkkxk/;{k MkW ’kkfgn vyh] lgk;d izk/;kid jktsaUnz eksgarh] f’koflax c?ksy rFkk iks"k.k yky lkgw miLfFkr FksaA LFkkfu; lg;ksx gsrw LFkkfu; Loara= i=dkj vk’kk ’kqDyk FkhA
losZ djus gsrw leLr Nk=&Nk=kvksa dks nks xzqi es foHkkftr fd;k x;k ftles xzqi , o xzqi ch uke fn;k x;kA Hkkuqizrkiiqj tks fd taxyks ,oa igkMh {ks=ks ls f?kjk gqvk gS] ;gka lMdks ds nksuks rjQ ?kus taxy fn[kkbZ iMrs gS] ogkW dk ekSle vR;ar gh eueksgd fn[kykbZ iM+rk gSA ;gka jgus okys yksx vkt Hkh iqjkus jhfr fjokt esa th jgs gS xzkeh.k {ks= ds nwjLFk ifjokj vkt Hkh rduhd tSls ewyHkwr lqfo/kk ls Hkh oafpr gSA Vhoh] dEI;wVj] eksckbZy ] jsfM;ks ] lekpkj i=] lk;dy  vPNs igukokas  ls dkslksa nwj gS lkQ utj vkrk gSA ftu nl xkoks dk lks’ky eSfiax losZ fd;k x;k ogka dh vf/kdrj tutkfr;ka gYch] dekj] xksaM] dksljk]]xksMh+] ;kno vkfn tkfr ds yksx jgrs gS ysfdu ogka jgus okys yksxks es T;knkrj tutkfr gYch] xksM] dekj FksA os gYch] xkasMh+ rFkk NRrhlx<+h Hkk"kk dk iz;ksx djrs gS  rFkk dgha dgha ij yksx fgUnh Hkk"kk dk iz;ksx djrs gSA
Xkzkeh.k ifjos’k dh tkudkjh ysrs Nk=
  NRrhlx<+ jkT; ds vkrs vkrs bu {ks=ks esa fo|ky; ] nok[kkuk ] iapk;r ] dq,Wa ] gS.Mikbi vkSj fo|qr dh lqfo/kk,Wa miyC/k gks xbZ gSA lM+dks dk foLrkj  Hkh gqvk gS A dkadsj ds eq[; ekxZ ds vykok van#uh {ks=ks esa Hkh dkj ] cl dh vkoktkgh gSA ;gkWa ds yksxks  esa tkx:drk vkbZ gS bl  rF; dks izekf.kr djrh gS ;gkW ds ;qok o cPpsA ;qok tks vius o vius xkWo ds fodkl ds fy, eujsxk ;kstuk dk ykHk mBk jgs gS ogh ij cPps vius ’kS{kf.kd thou dk vkaun ysrs gSA ferkfuu vkSj vkWaxuckM+h ds ekxZn’kZu esa efgyk,Wa vius ?kj o cPpks dk j[k j[kko djrh utj vkrh gSA
Nk=ks ls vuqHko ckWVrs dqyifr MkW- lfPpnkuan tks’kh
blh izdkj ls vkSj Hkh dbZ ,sls lkeftd ifjorZu ns[kus dks feyrs gS ftleas bu ;qokvks dh Hkkxhnkjh utj vkrh gSA ijarq bu ifjorZuks ds ckotqn dqN {ks=  vc Hkh nqj gS vkSj ogkWa ds vkfnoklh vius vkidks ubZ /kkjk ls cpkdj j[kus esa yxs gq, gS vkSj dkQh gn rd viuh laLd`fr vkSj laLdkjks dks Hkh lgsts gq, gSA
dk;Zdze ds vafre fnu dq’kkHkkÅ Bkdjs i=dkfjrk ,oe tulapkj fo’ofo|ky; ds ekuuh; dqyifr MkW0 lfPpnkuan tks’kh us Hkkuqizrkiiqj vkdj Nk= Nk=vksa ls ewykdkr dh rFkk losZ ds nkSjku  izkIr vuqHkoksa dks fo|kFkhZ ls lquk RkFkk mudk mRlkgo/kZu fd;kA  os  vuqHkoksa ls brus izHkkfor gq, dh mUgksus Nk= Nk=kvksa dk vyx&vyx leqgksa es loZs ls lacaf/kr fo"k;ksa ij vkys[k fy[kus dk dk;Z fn;k rFkk mUgksus Js"B vkys[k dks iqjLdkj nsus dh Hkh ?kks"k.kk dh ftls Nk= Nk=kvksa es dk;Z es izfr tks’k dk uo lapkj gqvkA


Tuesday, 25 September 2012


 भानुप्रतापपुर में पांच दिवसीय कार्यशाला का आयोजन
(प्रथम चरण)

पांच दिवसीय कार्यशाला का आयोजन
18 अगस्त रायपुर। सामाजिक परिवर्तन में युवाओं की भागीदारी परियोजना के अंतर्गत लेखन क्षमता विकास विषय को सामने रखते हुए भानुप्रतापपुर में 16 जुलाई से 20 जुलाई केा पांच दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग और चरखा द्वारा शासकीय महाविद्यालय भानुप्रतापपुर में आयोजित की गई। जिसमें शासकीय महाविद्यालय भानुप्रतापपुर के पत्रकारिता एवं जनसंचार के विद्यार्थियों सहित आस-पास के इलाके के मितानिन,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं स्व सहायता समूह की महिलाएं शामिल हुई। 
समाजिक समस्याओे पर चर्चा करते छात्र
   इस कार्यशाला में स्थानीय सामाजिक समस्याओं को पहचान कर उस पर आलेख लेखन तैयार करना सिखाया गया। कार्यशाला में स्थानीय कार्यकर्ताओं को और पत्रकारिता एवं जनसंचार के विद्यार्थियों को एक साथ कार्य करने और स्थानीय समस्याओं के आलेख लेखन संबंधी दिशा निर्देश दिए। पत्रकारिता के विद्यार्थियों, कार्यकर्ताओं और विश्वविद्यालय की टीम सभी नें समूह बनाकर अलग अलग सामाजिक समस्याओं पर चर्चा की। चर्चा के दौरान वहां के सामाजिक क्षेत्रीय समस्याओं को पहचाना गया। जिस पर कार्यशाला के अंतिम दिन आलेख तैयार किया जाना था। कार्यशाला के सभी सदस्यों द्वारा भानुप्रतापपुर ब्लॉक के दो ग्राम पंचायत बैजनपुरी और भैंसाकन्हार का भ्रमण भी किया गया। जिससे सभी सदस्य स्थानीय ग्रामीण अंचल की जीवनशैली, सामाजिक समस्याओं, स्वास्थय, शिक्षा और ग्रामीण आजिविका की वास्तविक स्थिति से परिचित हो जाए।
आलेख लेखन की जानकारी लेते छात्र
           गांव के भ्रमण से व्यवहारिक और सैद्धांतिक दोनों ही बातों की जानकारी मिली जिससे समस्याओं को सही रूप में पहचाननें में छात्र-छात्राओं और कार्यकर्ताओं को मदद मिली। समूह के सदस्यों नें दोनों गांवों में अलग अलग समस्याओं को सामने रखकर वहां के रहवासियों से बातचीत की और गांव की मुख्य समस्या पर ग्रामीणों से चर्चा की। प्राप्त जानकारी के आधार पर कार्यशाला के अंतिम दिवस आलेख लेखन किया गया। कार्यशाला के दौरान फीचर लेखन के कई आधारभूत बातों को बताया गया। समस्याओं और जानकारियों को फीचर के रूप में लेखन करना सीखाया गया।
 इस कार्यशाला का उद्देश्य आदिवासी इलाके में पत्रकारिता एवं जनसंचार का अध्ययन कर रहे विद्यार्थियों को पत्रकारिता एवं जनसंचार के महत्व को भी बताना था जिससे पत्रकारिता के विद्यार्थियों नें फीचर लेखन हेतु प्रेरणा ग्रहण की। कार्यशाला का आयोजन भानुप्रतापपुर ब्लॉक में किया गया है। इसके आस-पास के इलाके आदिवासी एवं नक्सल प्रभावित हैं रोजगार और अन्य सुविधाओं का अभाव है। इस क्षेत्र को चुनने का मक़सद था कि यह इलाका आदिवासी बाहुल्य है। शिक्षा एवं अन्य सुविधाओं की कमी है।




Monday, 17 September 2012



लोग जुडते गए और कारवा बनता गया
lektdk;Z foHkkx esa mUeq[khdj.k dk;Zdze
17 flrEcj jk;iqjA fl)karoknh ijaijk ,oa izFkk dks cnyus rFkk lgHkkfxrk ,oa HkkbZpkjs dh Hkkouk lkekftd mn~fodkl esa tquwu yk ldrh gSA mUeq[khdj.k dk;Zdze lektdk;Z foHkkx n~okjk xfBr fd;k x;kA Jherh Qwyoklu CkkbZ ;kno us dgk fd lektdk;Z ds {ks«k esa mudk dke 15 lky igys izkjaHk gks x;k FkkA og Hkh rc tc cgqr fnuksa rd Hkw[kk jgus ds dkj.k muds cPpksa dks chekj ns[kuk vlguh; gks x;k FkkA lkFk gh lkFk mUgksaus vusd izdkj dh lkekftd dfBukbZ;ksa dk lkeuk fd;kA
mUeq[khdj.k dk;Zdze
Jherh Qwyoklu CkkbZ ;kno us N-x- jkT; ds jktuanxkao ftysa dsaNqfj;k CykWd esa vf’kf{kr xzkeh.k efgykvksa ds lkFk tqM­­­­­­+dj ,oa Lo lgk;rk lewg dk fuekZ.k dj ukfj;kas ds l’kfDrdj.k dk chMk mBk;k ftlds ek/;e ls mUgksaus 10 gtkj efgykvksa dk lewg cukdj 15 yk[k efgykvks adks jkstxkj ds volj iznku fd;s A
 bl volj ij lektdk;Z ds fo)kfFkZ;ksa dks mUgksaus crk;k fd fdl rjg ls mUgksus vius thou esa dfBu ifjJe ,oa la?k"kZ dj bl eqdke dks ik;k gS mUgksus dbZ ehyks rd dk lQj uaxs iSj iSny pydj r; fd;k gS vkSj vusd vrqyuh; dk;Z mUgksaus bl {ks«k esa fd;k gS bl gsrq mUgs N-x- jkT; dh  vksj ls 2010 esa in~eJh lEeku ls uoktk x;k gS blds vykok mUgs dbZ vkSj lEekuks lss Hkh uoktk x;k gS A
**Ykksx tqMrs x,s vkSj dkjok curk x;k** ;g  dguk Fkk bl mUeq[khdj.k dk;Zdze esa fof’k"V vfrfFk ds :Ik es avkbZ gqbZ N-x-jkT; dh ,d vSkj ukjh ’kfDr in~eJh Jherh ’ke’kkn csxe A ’ke’kkncsxe us vius vuqHko crkrs gq,s dgk dh  izkjaHk esa mUgsa dbZ leL;kvks adk lkeuk djuk iMk ]  tc izkjaHk esa og xkoa tkrh Fkh rks xkoa dh efgyk,s amuls feyus esa Mjrh Fkh D;ksfd xkoa ds iq:"k muls feyus ds fy, euk djrs Fks vusdks bl rjg ds fojks/k ds ckn Hkh ’ke’kkn ldkjkRed lksPk ds lkFk vkxs  c<rh xbZ vkSj mudk iz;kl fujarj tkjh jgk yxHkx 5 lkyksa rd xkoa&xkoa ?kwedj Lo lgk;rklewg dh mi;ksfxrk xkoa okyks dks crkrh jgh mUgksus izkjaHk esa efgykvksa dks 50&50  :Ik;s tek djkdj cSad es [kkrk [kqyokuk izkjaHk dj fn;k vkSj vkt yxHkx 1000 gtkj Lo lgk;rk lewg dk fuek.kZ dj efgykvksa dks vusdks jkstxkj ds volj iznku dj jgh gS A lewg okyh esMe ds uke ls e’kgwj ’ke’kkn dks bl vrqyuh; dk;Z gsrw N-x- jkT; dh vksj ls 2010  esa in~e JhlEeku ls uoktk x;k gS blds vykok mUgs dbZ vkSj lEekuks lss Hkh uoktk x;k gS ftles feuhekrk ,okMZ ] jkT; efgyk vk;ksx dk lEeku ] ukckMZ dk fo’ks"k ,okMZ izeq[k gS A 

Friday, 14 September 2012


dq’kkHkkÅ Bkdjs i=dkfjrk ,oa tulapkj fo’ofo|ky; esa vksfj,aVs’ku dk;Zdze dk lQy vk;kstu

 रायपुर। ग्रामीण एवं आदिवासी लोगों के जीवन में विकास के लिये जनसंचार के विद्यार्थी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं। शासन की अनेक योजनाएं ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में क्रियान्वन एवं मूल्यांकन संप्रेषण एक उपकरण की तरह कार्य करता है। यह विचार डा.इन्दिरा मिश्र ने व्यक्त किये। पूर्व अतिरिक्त मुख्य सचिव डा.इंदिरा मिश्र आज कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के ओरिएंटेशन कार्यक्रम में विद्यार्थियों को संबोधित कर रही थी। विश्वविद्यालय के समवेत सभागार में डा मिश्र ने कहा  कि विकास की दिशा ग्रामीण गरीबी को दूर करने तथा विकास संचार को सशक्त करने में होनी चाहिये। ग्रामीण स्वास्थय, सामाजिक- आर्थिक न्याय, उद्योग धंधे, तकनीकी संसाधन, कृषि मजदूरों की समस्याएं इत्यादि एक दूसरे से संबंधित हैं, अतः विकास की दिशा तय करने में इन मुद्दों को उपेक्षित नहीं किया जा सकता है। डा.मिश्र ने विकास संचार के विषय पर अत्यन्त महत्वपूर्ण विचारों को सामने रखते हुए भारतीय संविधान के मौलिक कर्तव्यों की ओर ध्यान आकर्षित किया। इस अवसर पर युनिसेफ की कम्युनिकेशन आफिसर सुश्री प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि संचार के नैतिक मूल्यों की रक्षा करना आज के परिदृश्य में जरुरी है। सुश्री चतुर्वेदी ने संचार के सही उपयोग से आदिवासी लोगों में बदलाव लाने के बिन्दुओं पर प्रकाश डाला और विद्यार्थियों विकास संचार के क्षेत्र में कार्य करने की अपील की।
  इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति डा.सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि संचार के क्षेत्र में जनसमुदाय की अपेक्षाओं को समुचित स्थान देने का दृष्टिकोण पैदा करना जरुरी है। कार्यक्रम में अतिथियों का सम्मान शाल, श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर किया गया। स्वागत भाषण विभाग के अध्यक्ष डा.शाहिद अली ने किया। संचालन विभाग की छात्र-छात्राओं क्रमशः सुश्री अंकिता शर्मा एवं प्रफुल्ल कुमार ने एवं आभार प्रदर्शन श्री राजेन्द्र मोहन्ती, असिसटेंट प्रोफेसर जनसंचार विभाग ने किया।